स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय

स्वास्थ्य मंत्रालय कोविड संक्रमण की उच्च मृत्यु दर वाले जिलों के साथ लगातार समन्वय बनाए हुए है

उन्हें संक्रमण से होने वाली मौतों को रोकने और कम करने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा जारी सलाह और दिशानिर्देशों के तहत सुझाए गए उपायों का पालन करने की सलाह दी

Posted On: 07 AUG 2020 8:52PM by PIB Delhi

राष्ट्रीय और राज्यों के औसत से अधिक कोविड मृत्यु दर वाले जिले चिंता का कारण बने हुए हैं। ऐसे में कोविड-19 महामारी के प्रभावी नियंत्रण और प्रबंधन के लिए केंद्र-राज्य समन्वित रणनीति के तहत कोविड-19 से होने वाली मौतों का कारण जानने और ऐसी घटनाओं को कम करने के प्रयासों के तहत इन जिलों और उनके राज्य प्रशासन के साथ समन्वय बनाए रखने के लिए स्वास्थ्य सचिव श्री राजेश भूषण द्वारा आज एक उच्च स्तरीय वर्चुअल बैठक की अध्यक्षता की गई।

चार राज्यों के ऐसे 16 जिलों में गुजरात में अहमदाबाद और सूरत; कर्नाटक में बेलगावी, बेंगलुरु शहरी, कलबुर्गी और उडुपी; तमिलनाडु में चेन्नई, कांचीपुरम, रानीपेट, तेनी, तिरुवल्लुर, तिरुचिरापल्ली, तूतीकोरिन और विरुधनगर तथा तेलंगाना में हैदराबाद और मेडचलमलकाजगिरी शामिल हैं। इन जिलों में कोविड मृत्यु दर अधिक होने के साथ ही प्रति दस लाख आबादी पर जांच की संख्या भी कम है और यहां कोविड के रोजना सामने आने वाले पुष्ट मामलों की संख्या भी ज्यादा है। बैठक में चार राज्यों के प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) और प्रबंध निदेशक (एनएचएम) के साथ-साथ जिला निगरानी अधिकारियों, जिला कलेक्टरों, नगर निगम के आयुक्तों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों और मेडिकल कॉलेजों के चिकित्सा अधीक्षकों ने भाग लिया।

जिलों से कहा गया है कि वह सीओवीआईडी​​-19 के रोगियों और अन्य लोगों विशेषकर रुग्णता, गर्भवती महिलाएं, बुजुर्ग और बच्चों के बीच होने वाली मौतों को रोकने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी परामर्श, दिशानिर्देश और नैदानिक ​​उपचार प्रोटोकॉल के अनुपालन और क्रियान्वयन को सुनिश्चित करें।

स्वास्थ्य सेवाओं को लगातार जारी रखने के दृष्टिकोण तथा ईमानदारी से किए गए नियंत्रण और निगरानी के प्रयासों से मृत्यु दर में कमी लाने में मदद मिलती है। इसलिए राज्यों को सलाह दी गई कि वे परीक्षण प्रयोगशालाओं का उनकी क्षमता के हिसाब से अधिकतम उपयोग सुनिश्चित करें, प्रति दस लाख आबादी पर जांच की संख्या बढ़ाएं और समय पर उपचार तथा एंबुलेंस सेवाएं सुनिश्तिच कर सक्रिय मामलों का प्रतिशत कम करें। राज्यों को अनुमानित बेड और ऑक्सीजन की उपलब्धता और आवश्यकता का विश्लेषण करने और समय पर योजना बनाने की सलाह दी गई। उन्हें यह बताया गया कि स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं में संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए  संक्रमण की बेहतर रोकथाम और नियंत्रण को सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है।

कोविड-19 संबंधित तकनीकी मुद्दों, दिशानिर्देशों और परामर्शों पर सभी प्रामाणिक और अद्यतन जानकारी के लिए नियमित रूप से https://www.mohfw.gov.in/और @MoHFW_INDIA देखें:

कोविड-19 से संबंधित सभी तकनीकी प्रश्न ncov2019@gov.in और @CovidIndiaSeva पर तथा  अन्य प्रश्नों के लिए technquery.covid19@gov.in इस पते पर ईमेल द्वारा जानकारी ली जा सकती है।

कोविड-19 से संबंधित किसी भी प्रश्न के उत्तर के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के हेल्पलाइन नंबर: + 91-11-23978046 या 1075 (टोल-फ्री) पर संपर्क करें। कोविड-19 पर राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के हेल्पलाइन नंबरों की सूची https://www.mohfw.gov.in/pdf/coronvavirushelplinenumber.pdf पर भी उपलब्ध है।

****

  एमजी /एएम /एमएस/एसएस                                                                                        



(Release ID: 1644315) Visitor Counter : 47