रेल मंत्रालय

श्री नरेंद्र सिंह तोमर और श्री पीयूष गोयल ने अन्य गणमान्य लोगों के साथ देवलाली (महाराष्ट्र) से दानापुर (बिहार) के लिए एक विशेष पार्सल ट्रेन “किसान रेल” को दिखाई हरी झंडी

देश भर में कृषि उत्पादों की तेज ढुलाई सुनिश्चित करने में परिवर्तनकारी साबित होगी “किसान रेल”: श्री नरेंद्र सिंह तोमर

कोविड की चुनौतियों से निपटने में भारतीय रेल और भारतीय किसान रहे अग्रणी, कोविड महामारी में खाद्यान्न की ढुलाई हुई दोगुनी, किसानों को संपन्न बनाने की दिशा में एक कदम है किसान रेल : श्री पीयूष गोयल

उत्सुकता से उस दिन का इंतजार कर रहा हूं, जब कश्मीर के सेब किसान रेल के माध्यम से कन्याकुमारी तक पहुंचेंगे : श्री पीयूष गोयल

ट्रेन से जल्द सड़ने वाले उत्पादों के लिए उपलब्ध होगी एक निर्बाध आपूर्ति श्रृंखला, किसानों को होगा फायदा, सामान्य ट्रेन के ‘पी’ स्केल के पार्सल टैरिफ की तरह ही इस ट्रेन से वसूला जाएगा भाड़ा शुल्क

Posted On: 07 AUG 2020 3:35PM by PIB Delhi

भारतीय रेल ने आज 07/08/2020 को देवलाली से पहली किसान रेल का शुभारम्भ किया, जो देवलाली से दानापुर तक चलेगी। केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर तथा रेल और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

इस कार्यक्रम में रेल राज्य मंत्री श्री सुरेश सी. अंगदी, पंचायती राज, कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री श्री पुरुषोत्तम खोदाभाई रूपाला, कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री श्री कैलाश चौधरी, उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री श्री राव साहेब पाटिल दानवे, महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता श्री देवेंद्र फडणवीस, महाराष्ट्र सरकार के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता सुरक्षा मंत्री श्री छगन भुजबल एवं अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

ट्रेन शुरुआत में 10 +1 वीपी के संयोजन के साथ साप्ताहिक आधार पर चलेगी। ट्रेन कल 18:45 बजे दानापुर पहुंचेगी और इस दौरान वह 31:45 घंटे में 1,519 किलोमीटर का सफर तय करेगी।

इस अवसर पर अपने संबोधन में श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, यह किसानों के लिए महान दिन है। किसान रेल की घोषणा बजट में की गई थी। कृषि उत्पादों को सर्वश्रेष्ठ संभावित वितरण और रिटर्न की आवश्यकता होती है। भारतीय किसानों ने साबित किया है कि वे किसी भी आपदा या चुनौती से हतोत्साहित नहीं होते हैं। किसान रेल कृषि उत्पादों को देश के एक कोने से दूसरे कोने तक पहुंचाना सुनिश्चित करेगी। इस ट्रेन से किसानों और उपभोक्ताओं दोनों को ही फायदा होगा।

किसान रेल देश भर में कृषि उत्पादों की त्वरित ढुलाई सुनिश्चित करके क्षेत्र में बदलाव लाएगी। श्री तोमर ने कोविड संकट के दौर में खाद्यान्न आपूर्ति श्रृंखला का रखरखाव करने के लिए भारतीय रेल की प्रशंसा की।

इस अवसर श्री पीयूष गोयल ने कहा, भारतीय रेल ने किसानों की सेवा में ट्रेनें लगाई हैं। यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का मार्गदर्शन और प्रेरणा ही है, जो भारतीय रेल ने किसान रेल का शुभारम्भ किया है। यह ट्रेन किसानों की आय दोगुनी करने में एक मील का पत्थर साबित होगी। भारतीय रेल और किसान कोविड चुनौतियों से निपटने में अग्रणी रहे थे। इस अवधि के दौरान खाद्यान्न की ढुलाई दोगुनी हो गई थी। भारतीय किसानों के हित को खासी प्राथमिकता दी जा रही है, जो पहले कभी नहीं हुआ। मैं उस दिन का इंतजार कर रहा हूं, जब कश्मीर का सेब किसान रेल से कन्याकुमारी तक पहुंचे।

Description: http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image001TAA5.jpg

                                             

मध्य रेलवे का भुसावल मंडल प्राथमिक रूप से कृषि आधारित मंडल है। नासिक और उसके आसपास के क्षेत्रों में बड़ी मात्रा ताजी सब्जियां, फल, फूल, अन्य जल्द सड़ने वाले उत्पाद, प्याज और अन्य कृषि उत्पाद पैदा होते हैं। इन जल्द सड़ने वाले खाद्य पदार्थों की मुख्य रूप से पटना, प्रयागराज, कटनी, सतना आदि क्षेत्रों को ढुलाई की गई है।

यह ट्रेन नासिक रोड, मनमाड, जलगांव, भुसावल, बुरहानपुर, खंडवा, इटारसी, जबलपुर, सतना, कटनी, माणिकपुर, प्रयागराज चौकी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर और बक्सर में रुकेगी।

 

बड़े जोड़ी स्टेशनों के लिए भाड़ा दरें इस प्रकार हैं :

 

प्रति टन भाड़ा:

 

नासिक रोड/ देवलाली से दानापुर

 4001 रुपये

मनमाड से दानापुर

3849 रुपये

जलगांव से दानापुर

3513 रुपये

भुसावल से दानापुर

3459 रुपये

बुरहानपुर से दानापुर

3323 रुपये

खंडवा से दानापुर

3148 रुपये

 

किसान रेल के शुभारम्भ के साथ भारतीय रेलवे का उद्देश्य किसानों की आय दोगुनी करना है। इस ट्रेन से सब्जियां, फलों जैसे जल्द सड़ने वाले कृषि उत्पादों को कम समय में बाजार तक पहुंचाने में सहायता मिलेगी। फ्रोजेन कंटेनरों वाली ट्रेन से मछली, मांस और दूध सहित जल्द सड़ने वाले उत्पादों की निर्बाध राष्ट्रीय अवशीतन (कोल्ड) आपूर्ति श्रृंखला तैयार होने का अनुमान है।

भारतीय रेल इससे पहले एक कमोडिटी के लिए बनाना (केला) स्पेशल जैसी विशेष ट्रेनें चलाती थी। लेकिन यह अभी तक की पहली मल्टी कमोडिटी ट्रेन होगी और इसमें अनार, केला, अंगूर जैसे फल और शिमला मिर्च, फूल गोभी, ड्रमस्टिक, पत्ता गोभी, प्याज, मिर्च जैसी सब्जियों की ढुलाई की जाएगी। इसके लिए स्थानीय किसानों, लोडर्स, एपीएमसी और वैयक्तिक स्तर पर आक्रामक विपणन किया जा रहा है। मांग जुटाई जा रही है। ऐसा अनुमान है कि ट्रेन    को अच्छी तरह से संरक्षण दिया जाएगा और किसानों को भी खासी सहायता मिलेगी। इस ट्रेन के लिए भाड़ी दरें सामान्य ट्रेन की पार्सल दरों के समान होंगी। (तालिका देखें)

 

***

 

एमजी/एएम/एमपी/एसएस



(Release ID: 1644334) Visitor Counter : 57