Vice President's Secretariat

Vice President wishes nation ahead of the upcoming festivals 'Ugadi, Gudi Padava, Chaitra Sukladi, Cheti Chand, Vaisakhi, Vishu, Puthandu, Vaishkhadi and Bohag Bihu’

Posted On: 12 APR 2021 2:41PM by PIB Delhi

The Vice President, Shri M Venkaiah Naidu has greeted the people of the nation ahead of the upcoming festivals ‘Ugadi, Gudi Padava, Chaitra Sukladi, Cheti Chand, Vaisakhi, Vishu, Puthandu, Vaishkhadi and Bohag Bihu’.​

Following is the full text of the message -

I extend my warm greetings and good wishes to the people of our country on the auspicious occasion of ‘Ugadi, Gudi Padava, Chaitra Sukladi, Cheti Chand, Vaisakhi, Vishu, Puthandu, Vaishkhadi and Bohag Bihu’.

These festivals mark the beginning of traditional New Year and reflect our country's composite culture and rich heritage. People of Andhra Pradesh and Telangana call it 'Ugadi', and in Karnataka, it is ‘Yugadi’. In Maharashtra, it is celebrated as ‘Gudi Padwa’, and in Tamil Nadu, it is observed as ‘Puthandu’. While our Malayali sisters and brothers celebrate the occasion as ‘Vishu’ in Kerala, Punjab sways to the festivities of ‘Vaisakhi’ and in Odisha, it is called ‘Pana Sankranthi’. In West Bengal, ‘Poila Boishakh’ ushers in the new year and in Assam, 'Bohag Bihu' marks the beginning of the new year. The names differ but the festive spirit suffused with joy, hope and togetherness remains the same.

Our religious text and scriptures are full of incidents showing our reverence towards Mother Nature. The harvest season in our country is itself an occasion to celebrate the vitality and abundance of nature.

In our country, festivals are always an occasion for family and friends to come together and celebrate. But given the situation arisen due to the COVID-19 pandemic, I urge my fellow citizens to celebrate the festival by adhering to COVID health and hygiene protocols.

May these festivals bring peace, harmony, prosperity and happiness in our country.

Following is the Hindi text of the message -

“मैं 'उगादि, गुड़ी पड़वा, चैत्र शुक्लादि, चेटीचंड, वैशाखी, विशु, पुथांडु, वैशाखादि और बोहाग बिहू' के शुभ अवसर पर अपने देश के सभी नागरिकों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं देता हूं।

ये त्यौहार पारम्परिक नव वर्ष के शुभारंभ के अवसर पर मनाये जाते हैं और हमारे देश की सामासिक संस्कृति और समृद्ध विरासत को दर्शाते हैं। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के लोग 'उगादि' और कर्नाटक में 'युगादी' के नाम से इस त्यौहार को मनाते हैं। महाराष्ट्र में इसे 'गुड़ी पड़वा' और तमिलनाडु में 'पुथांडु' के नाम से यह त्यौहार मनाया जाता है। केरल में हमारे मलियाली भाई-बहन इसे 'विशु' और पंजाब में 'वैशाखी' के नाम से इस उत्सव को मनाते हैं। ओडिशा में इसे 'पणा संक्राति' के नाम से मनाया जाता है। पश्चिमी बंगाल में 'पोइला बोइशाख' और असम में 'बोहाग बिहू' नव वर्ष के आगमन का प्रतीक है। इस त्यौहार का आयोजन अलग-अलग नामों से किया जाता है, परंतु उल्लास, उमंग और घनिष्ठता की भावना से परिपूर्ण उत्सवी माहौल हर जगह एक समान होता है।

हमारे धर्म ग्रंथों और शास्त्रों में अनेक ऐसी घटनाओं का उल्लेख है, जिनसे प्रकृति के प्रति हमारी श्रद्धा का पता चलता है। हमारे देश में फसल-कटाई का मौसम अपने आप में एक ऐसा अवसर होता है, जो प्रकृति के चैतन्य और प्राचुर्य के उत्सव की तरह मनाया जाता है।

हमारे देश में, त्यौहार सदा से ऐसा अवसर रहा है, जब परिजन और मित्र-बंधु एक साथ मिलकर उत्सव का आयोजन करते हैं। परंतु कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न हुई स्थिति को ध्यान में रखते हुए मैं सभी नागरिकों से कोविड-19 संबंधी स्वास्थ्य और स्वच्छता नयाचारों का अनुपालन करते हुए इस त्यौहार को मनाने का आग्रह करता हूं।

मैं कामना करता हूँ कि ये पर्व हमारे देश में शांति, सौहार्द्र, समृद्धि और खुशहाली लाएँ।

****

MS/RK/DP



(Release ID: 1711143) Visitor Counter : 401